blogid : 4582 postid : 1708

अनुशासन में बंधी भाजपा

Posted On: 6 Dec, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

IND19116Bराष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राजनीतिक शाखा के रूप में जनसंघ से शुरू हुई भाजपा की राजनीतिक यात्रा बेहद उतार-चढ़ाव वाली रही है। काडर के रूप में पली-बढ़ी इस पार्टी की असली ताकत उसका संगठन है। संगठन के सारे सूत्र राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से आए प्रचारकों के हाथों में रहते है और इसी वजह से संघ का अप्रत्यक्ष, लेकिन प्रभावी नियंत्रण पार्टी पर रहता है। आंतरिक लोकतंत्र है, लेकिन पार्टी अनुशासन से बंधा। सत्ता का स्वाद चखने के बाद पार्टी के प्रबंधन तंत्र में संगठन का एकाधिकार टूटा है।


विचारधारा अभिन्न अंग

मौजूदा भाजपा अब जनसंघ के दिनों वाली पार्टी नहीं रही है। डेढ़ दशक पहले केंद्रीय सत्ता में आने के बाद पार्टी की चाल, चेहरा व चरित्र में बदलाव आया है। 1980 में ‘पार्टी विद डिफरेंस’ [सबसे अलग पार्टी] का नारा देने वाली भाजपा देश के राजनीतिक बदलावों में खुद भी काफी बदल गई है। कहने को तो विचारधारा अब भी पार्टी का अभिन्न अंग है, लेकिन सत्ता की दौड़ में उसे उससे समझौता करने में भी कोई गुरेज नहीं होता है।


L.K. Advaniसंघ की पकड़

इस समय पार्टी साढ़े तीन दशकों से चले आ रहे अटल-आडवाणी का युग समाप्त होने के बाद संक्रमण काल से गुजर रही है। ऐसे में संघ बीते एक दशक में पार्टी पर ढीली पड़ी अपनी पकड़ को फिर से मजबूत करने पर जुटा है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की बीमारी व लालकृष्ण आडवाणी से जुड़े जिन्ना विवाद से संघ को इसका मौका भी मिला। सरसंघचालक के रूप में संघ की कमान संभालने के बाद मोहन भागवत ने भाजपा को फिर से सीधे संघ के नियंत्रण में लेने में देर नहीं लगाई। पार्टी की मजबूत केंद्रीय नेताओं वाली दूसरी पंक्ति के बीच मतभेदों का फायदा उठाते हुए उसने अपनी पसंद के महाराष्ट्र की राजनीति कर रहे नितिन गडकरी को राष्ट्रीय कमान सौंप दी। इससे पार्टी के भीतर का घमासान बढ़ा है। यह विरोध मुखर इसलिए नहीं है, क्योंकि संगठन की ताकत संघ के हाथों में है और संघ गडकरी के साथ है।


bjpपार्टी प्रबंधन

भारतीय जनता पार्टी का प्रबंधन ढांचा पूरी तरह का काडर आधारित है। पार्टी का अपना संविधान है और उस पर अमल करते हुए नियमित रूप से मंडल स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक संगठन चुनाव भी होते हैं। प्रबंधन तंत्र और संगठन ढांचा एक दूसरे से जुड़ा हुआ है। मंडल, जिला व प्रदेश स्तर की समितियों के बाद सबसे प्रभावी तंत्र केंद्रीय स्तर होता है। पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था केंद्रीय संसदीय बोर्ड है, जो कोई भी आपातकालीन फैसला लेकर लागू कर सकती है। हालांकि सबसे अहम राष्ट्रीय कार्यकारिणी है, जो पार्टी की रीति-नीति व रणनीति तय करती है। इसकी बैठक हर तीन माह बाद होती है। राष्ट्रीय परिषद की बैठकें भी समय समय पर होती है। गौरतलब है कि भाजपा देश की एक मात्र पार्टी है जिसने अपने संगठन में महिलाओं को एक तिहाई आरक्षण दिया है।



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Carajean के द्वारा
July 12, 2016

Thanks for writing such an eaust-o-ynderstand article on this topic.


topic of the week



latest from jagran